यूरोप में राष्ट्रवाद का उदय पाठ 1 l महत्वपूर्ण प्रश्न के उत्तर क्लास 10

यूरोप में राष्ट्रवाद का उदय

यूरोप में राष्ट्रवाद का उदय , हेलो स्टूडेंट आज हम इस ब्लॉग पोस्ट के माध्यम से क्लास दसवीं के सोशल साइंस में इतिहास के पहला पाठ यूरोप में राष्ट्रवाद का उदय के सभी महत्वपूर्ण प्रश्नों का उत्तर इस ब्लॉग में कबर कवर करेंगे इस पाठ से संबंधित सभी प्रकार के महत्वपूर्ण प्रश्नों का हल आप सभी विद्यार्थियों को यहां पर पढ़ने के लिए मिलेगा इसलिए आप तमाम विद्यार्थियों से निवेदन है, कि इस ब्लॉग पोस्ट को पूरा पढ़ें ताकि आपकी परीक्षा की तैयारी अच्छी से हो सके साथ में कोई भी कंपटीशन एग्जाम के लिए भी काफी महत्वपूर्ण है l

यूरोप में राष्ट्रवाद का उदय अति लघु उत्तरीय प्रश्न के उत्तर 
यूरोप में राष्ट्रवाद का उदय लघु उत्तरीय प्रश्न के उत्तर 
यूरोप में राष्ट्रवाद का उदय दीर्घ उत्तरीय प्रश्न के उत्तर

1.राष्ट्र क्या है?
उत्तर-
अर्न्स्ट रेनन के अनुसार, राष्ट्र समान भाषा, नस्ल, धर्म या क्षेत्र से बनता है। एक राष्ट्र लंबे प्रयासों, त्याग और निष्ठा का चरम बिंदु होता है।

2. राष्ट्र-राज्य क्या है?
उत्तर
-राष्ट्र-राज्य में एक निश्चित भौगोलिक क्षेत्र उन लोगों का गृह क्षेत्र बन जाता है, जो सांस्कृतिक, ऐतिहासिक, भाषायी तथा धार्मिक आधार पर एक समुदाय के रूप में एकजुट होते हैं, तथा राजनैतिक आधार पर प्रशासित होते हैं।

3. राष्ट्रवाद से आप क्या समझते हैं ?
उत्तर-
राष्ट्रवाद उन्हीं लोगों को भाता है, जो अपने लिए एक स्थायी महत्त्वपूर्ण स्थान की बदलते हुए समाज में बनाने की इच्छा रखते हैं।

4. जनमत-संग्रह से क्या समझते हैं ?
उत्तर-
एक प्रत्यक्ष मतदान जिसके जरिए एक क्षेत्र के सभी लोगों से एक प्रस्ताव को स्वीकार या अस्वीकार करने के लिए पूछा जाता है।

5 निरंकुशवाद से आप क्या समझते हैं ?
उत्तर-
ऐसी सरकार या शासन व्यवस्था जिसकी सत्ता पर किसी प्रकार का कोई अंकुश नहीं होता। ऐसी राजशाही सरकारों को निरंकुश सरकार कहा जाता है जो अत्यंत केन्द्रीकृत, सैन्य बल पर आधारित और दमनकारी सरकारें होती थीं।

यूरोप राष्ट्रवाद का उदय के nots

6. उदारवाद से आपका क्या तात्पर्य है ?
उत्तर-
उदारवाद शब्द लैटिन भाषा के ‘Liber’ शब्द से निकला है जिसका अर्थ है ‘आजाद’ । इस प्रकार उदारवाद का अर्थ हुआ, व्यक्ति के लिए आजादी, कानून के समक्ष सबकी बराबरी, निरंकुश शासक और पादरी वर्ग के विशेषाधिकारों की समाप्ति तथा संविधान तथा संसदीय प्रतिनिधि सरकार की स्थापना।

7 रूढ़िवादी कौन थे?
उत्तर-
उदारवादियों के विपरीत रूढ़िवादी वे लोग थे जो यह मानते थे कि राज्य और समाज की स्थापित पारंपरिक संस्थाएँ, जैसे राजतन्त्र, चर्च, सामाजिक ऊँच-नीच, सम्पत्ति और परिवार को बनाए रखना चाहिए।

8 नृजातीय से आप क्या समझते हैं ?
उत्तर-
एक साझा नस्ली, जनजातीय या सांस्कृतिक उद्गम अथवा पृष्ठभूमि जिसे कोई समुदाय अपनी पहचान मानता है।

9 कल्पनादर्श (यूटोपिया) क्या है ?
उत्तर-
एक ऐसे समाज की कल्पना जो इतना आदर्श है कि उसका साकार होना लगभग
असंभव होता है।

क्लास 10 इतिहास के प्रश्न उत्तर

10 ‘नारीवाद’ से क्या अभिप्राय है?
उत्तर
-‘नारीवाद’ एक ऐसा दर्शन है जो स्त्री-पुरुष की सामाजिक, आर्थिक राजनीतिक समानता के सिद्धांत पर आधारित है। इस दर्शन का उदय 18 वीं सदी में जर्मनी में हुआ जहाँ महिलाओं को एक लंबे समय से राजनीतिक अधिकारों से वंचित रखा गया था।

11 ‘रूपक’ से आपका क्या तात्पर्य है ?
उत्तर
-जब किसी अमूर्त विचार (जैसे- स्वतन्त्रता, मुक्ति, ईर्ष्या, लालच आदि) को किसी व्यक्ति या किसी चीज द्वारा इंगित किया जाता है तो उसे रूपक कहा जाता है।

12 जर्मेनिया से आप क्या समझते हैं ?
उत्तर-
जैसे फ्रांस में मेरियन एक नारी-रूपक था जिसे स्वतंत्रता और गणतंत्र का राष्ट्रीय प्रतीक माना जाता था उसी प्रकार जर्मेनिया भी एक नारी-रूपक था जिसे जर्मनी में राष्ट्र का प्रतीक माना जाता था। जर्मेनिया बलूत वृक्ष के पत्तों का मुकुट पहनती है क्योंकि जर्मन बलूत वीरता का प्रतीक माना जाता है।

13 मारीआन से आप क्या समझते हैं?
उत्तर-
मारीआन एक नारी-रूपक है जिसे फ्रांस में स्वतन्त्रता और गणतन्त्र का प्रतीक माना गया है। मारीआन की प्रतिमाएँ सार्वजनिक चौराहों पर लगाई गईं ताकि जनता को राष्ट्रीय प्रतीक की याद आती रहे।

Ncert Solution class 10th यूरोप में राष्ट्रवाद का उदय

14 ऑटोमन साम्राज्य से क्या तात्पर्य है?
उत्तर
-ऑटोमन साम्राज्य अर्थात् उस्मानी सल्तनत 1299 में पश्चिमोत्तर अनातोलिया में स्थापित एक तुर्क राज्य था। इस साम्राज्य के अंतर्गत पश्चिम एशिया और यूरोप के कुछ देश आते थे। जिसके संस्थापक उस्मान प्रथम थे। महमद द्वितीय द्वारा 1493 में कुस्तुतुनिया जीतने के बाद यह एक साम्राज्य में बदल गया। प्रथम विश्वयुद्ध 1919 में पराजित होने पर इसका विभाजन कर इस पर अधिकार कर लिया गया।

15 फ्रेडिक सॉरयू कौन था ?
उत्तर-
फ्रेडिक सॉरयू एक फ्रांसीसी चित्रकार था। 1848 ई० में उसने चित्रों की श्रृंखला के माध्यम से गणतंत्र, स्वतंत्रता, ज्ञानोदय, राष्ट्र आदि के आदर्श को प्रस्तुत किया।

16 नेपोलियन बोनापार्ट कौन था ?
उत्तर
-नेपोलियन बोनापार्ट फ्रांस का एक महान सेनानायक था जिसके नेतृत्व में फ्रांस ने अनेक विजय प्राप्त की। बाद में उसे फ्रांस का पहला सम्राट घोषित किया गया। उसके द्वारा उदारवादी शासन व्यवस्था के लिए बनाई गई आचार संहिता प्रसिद्ध है।

17 काउंट कैमिलो दे कावूर कौन था ?
उत्तर-
काउंट कैमिलो दे कावूर इटली के सार्डीनिया-पीडमॉण्ट राज्य का मंत्री प्रमुख था। उसने इटली के प्रदेशों को स्वीकृत करने वाले आन्दोलन का नेतृत्व किया।

18 ज्युसेपी मेत्सिनी कौन था ?
उत्तर-
ज्युसेपी मेसिनी इटली का एक महान क्रांतिकारी था।

यूरोप में राष्ट्रवाद का उदय के प्रश्न

19 ज्युसेपी मेत्सिनी का जन्म कब और कहाँ हुआ था ?
उत्तर
-ज्युसेपी का जन्म 1807 ई० में जेनोआ में हुआ था।

20 ‘यंग इटली’ क्या था ? इसकी स्थापना किसने की?
उत्तर-
यंग इटली एक गुप्त क्रांतिकारी संगठन था। इसकी स्थापना 1830 ई० के दशक में ज्युसेपी मेत्सिनी ने एकीकृत इटली के विचारों को प्रसारित करने के लिए की थी।

21 जर्मन पंचाँग को कब और किसने बनाया ?
उत्तर-
जर्मन पंचांग या तिथिक्रम का मुखपृष्ठ 1798 ई० में पत्रकार ऐड्रियास रेबमान ने डिजाइन किया था।

22 कार्टर प्रणाली से आप क्या समझते हैं ?
उत्तर
-कार्टर प्रणाली. विभिन्न राष्ट्रों के बीच होने वाला समझौता था जिसका उद्देश्य पारस्परिक आर्थिक हितों की रक्षा करना एवं उन्हें प्रोत्साहन देना था।

23 “दि स्पीरिट ऑफ लॉ’ नामक पुस्तक का लेखक कौन था ?
उत्तर-
‘दि स्पीरिट ऑफ लॉ’ नामक पुस्तक का लेखक मांटेस्क्यू था।

24 बैंक ऑफ फ्रांस की स्थापना किसने की ?
उत्तर-
बैंक ऑफ फ्रांस की स्थापना नेपोलियन बोनापार्ट ने किया था।

25 “लोगों को अपनी आजादी मुट्ठी में कर लेनी चाहिए यह किसका कथन है ?
उत्तर-
“लोगों को अपनी आजादी मुट्ठी में कर लेनी चाहिए” यह कथन ऐंड्रियास रेबमान का है।

26 वियना सम्मेलन की मेजबानी किसने की थी ?
उत्तर-
ऑस्ट्रिया के चांसलर डयूक मैटेरनिख ने।

27 जॉलवेराइन नामक शुल्क संघ क्या था और इसकी स्थापना क्यों की गई?
उत्तर-
जॉलवेराइन नामक शुल्क संघ की स्थापना प्रशिया के अनुरोध पर 1834 ई० को हुई जिसमें लगभग सभी जर्मन राज्य शामिल हुए। इस संघ ने बहुत से शुल्क अवरोधों को समाप्त कर दिया और मुद्राओं की संख्या 30 से घटाकर 2 कर दी।

28 मताधिकार किसे कहते हैं ?
उत्तर
-वोट देने के अधिकार को मताधिकार कहा जाता है।

29 ‘जब फ्रांस छींकता है तो बाकी यूरोप को सर्दी-जुकाम हो जाता है। – यह कथन किसका है?
उत्तर-
मैटरनिख।

30 विचारधारा से आप क्या समझते हैं ?
उत्तर-
एक खास प्रकार की सामाजिक एवं राजनीतिक दृष्टि को इंगित करने वाले विचारों का समूह विचारधारा कहलाता है।

31 जर्मनी के एकीकरण के मुख्य निर्माता कौन-कौन थे?
उत्तर
-(क) प्रशिया का शासक विलियम प्रथम। (ख) प्रशिया का चांसलर बिस्मार्क।

32 इटली के एकीकरण के मुख्य कर्णधार कौन-कौन थे?
उत्तर
-(क) इटली के मेजिनी. कावूर और गैरीबाल्डी जैसे महान क्रांतिकारी और विचारक।
(ख) सार्जीनिया का शासक विक्टर इमेनुयल द्वितीय।

33 फ्रांस की क्रांति की मुख्य देन क्या है ?
उत्तर-
फ्रांस की क्रांति (1789-1815) के द्वारा प्रभुसत्ता राजतंत्र से निकल कर फ्रांसीसी नागरिकों के हाथ में आ गई। इस क्रांति ने यह घोषणा की कि अब लोगों द्वारा राष्ट्र का गठन होगा और वे ही उसकी नीतियों तय करेंगे।

34 बिस्मार्क का परिचय दें। उसकी जर्मनी के एकीकरण में क्या भूमिका थी?
अथवा, बिस्मार्क कौन था? उसने कौन-सी नीति अपनाई ?
उत्तर-
बिस्मार्क जर्मनी का एक महान नेता था। बिस्मार्क ने जर्मनी के एकीकरण के लिए बहुत अधिक प्रयल किए। एकीकरण के लिए उसके द्वारा अपनाई गई नीति रक्त और लौह’ की नीति के नाम से इतिहास में प्रसिद्ध है।

35 रुसो का परिचय दें और बताएँ कि फ्रांस की क्रांति में उसकी क्या भूमिका थी?
उत्तर-
रुसो एक महान विचारक था। रुसो का प्रभाव फ्रांस की जनता पर अन्य लेखकों तथा विचारकों की तुलना में सबसे अधिक पड़ा। उसकी पुस्तक ‘सामाजिक समझौता’ द्वारा लोगों की क्रांति के लिए प्रेरित करने वाले विचार मिले। उसने लोगों के सामने ऐसे समाज की स्थापना का विचार रखा जिसमें उन्हें स्वतंत्रता, समानता और न्याय की प्राप्ति की आशा थी। उसके इन नवीन विचारों ने क्रांतिकारी विस्फोट को जन्म दिया।

36 1815 की वियना संधि के क्या उद्देश्य थे ?
उत्तर-
1815 की वियना संधि के उद्देश्य-
(i) नेपोलियाई युद्धों के दौरान हुए बदलावों को खत्म करना।
(ii) बूढे वंश को सत्ता में पुनः बहाल करना।

37 1830 की क्रांति का फ्रांस पर क्या प्रभाव पड़ा?
उत्तर-
1830 की क्रांति के परिणामस्वरूप बूर्वो राजा जिन्हें 1815 के बाद हुई रूढ़िवादी प्रतिक्रिया के दौरान सत्ता पर बहाल किया गया था, उन्हें क्रांतिकारियों ने उखाड़ फेंका। उनके स्थान पर अब संवैधानिक राजतन्त्र स्थापित हुए। फ्रांस में सत्ता लुई फिलिप को सौंपी गई।

38 1848 की क्रांति का फ्रांस पर क्या प्रभाव पड़ा?
उत्तर-
1848 की क्रांति के परिणामस्वरूप फ्रांस के शासक लुई फिलिप को गद्दी छोड़नी पड़ी और वहाँ एक गणतन्त्र की घोषणा की गई जो सभी पुरुषों के सार्विक मताधिकार पर आधारित था।

Share

About gyanmanchrb

इस वेबसाइट के माध्यम से क्लास पांचवीं से बारहवीं तक के सभी विषयों का सरल भाषा में ब्याख्या ,सभी क्लास के प्रत्येक विषय का सरल भाषा में सभी प्रश्नों का उत्तर दर्शाया गया है

View all posts by gyanmanchrb →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *