पाठ-3 सवैया कवित्त हिंदी कक्षा-10 महत्वपूर्ण प्रश्न उत्तर 2022

सवैया कवित्त हिंदी महत्वपूर्ण प्रश्न उत्तर के इस कविता से जुड़ी जितने भी महत्वपूर्ण एवं परीक्षा में आने लायक प्रश्न है। उनका हल इस ब्लॉग में आपको मिलेगा इसलिए इस ब्लॉग में बने रहे। आशा है इस ब्लॉग को पढ़ने के बाद इसमें दिए गए सभी प्रश्नों का उत्तर आप सभी विद्यार्थियों के लिए फायदेमंद जरूर होंगे।यदि आपको यह ब्लॉक अच्छा लगता है। तो अपने दोस्तों में या सोशल मीडिया में जरूर शेयर करें। ताकि उन लोगों को भी मदद मिल सके जो ऑनलाइन घर बैठे अपनी नॉलेज को बढ़ाना चाहते हैं। और परीक्षा में अच्छा नंबर लाना चाहते हैं ।

सवैया कवित्त हिंदी पाठ-3 NCE RT Solution for class 10th

देव सवैया 

(1.) कवि और कविता का नाम लिखें। 

उत्तर-कवि का नाम- देव, कविता का नाम- सवैया।

(2.) इस सवैये का वर्ण्य विषय क्या है ?

उत्तर-इस सवैये का वर्ण्य विषय है- श्रीकृष्ण के अप्रतिम सौंदर्य का बखान करना। यह वर्णन उनके सामंती सौंदर्य को दर्शाता है।

(3.) श्रीकृष्ण के किन-किन आभूषणों के बारे में क्या कहा गया है ?

उत्तर-सवैया कवित्त हिंदी में श्रीकृष्ण ने पैरों में पाजेब (नूपुर) तथा कमर में करधनी पहन रखी है। ये दोनों आभूषणों बड़ी मधुर ध्वनि कर रहे हैं। यह ध्वनि मन को भाती है।

(4.)श्री कृष्ण की शरीर के सौंदर्य का वर्णन करें ?

उत्तर-श्रीकृष्ण का रंग साँवला है। उनके साँवले शरीर पर पीतांबर की शोभा देखते ही बनती है। उनके गले में बन के फूलों की माला सुशोभित हो रही है। उनके माथे पर मुकुट है तथा उनके नेत्र बड़े और चंचल हैं। श्रीकृष्ण के मुखचंद्र पर हँसी चाँदनी के समान बिखरी रहती है।

(5.)कृष्ण को दीपक क्यों कहा गया है वे ब्रिज दुल्हन क्यों हैं ?

उत्तर-श्रीकृष्ण इस जग रूपी मंदिर के दीपक हैं। उन्हें दीपक इसलिए कहा गया है क्योंकि उनसे लोगों को प्रकाश मिलता है। उनकी हँसी प्रकाश देने वाली प्रतीत होती है। उनको ब्रजदूलह इसलिए कहा गया है क्योंकि वे समस्त ब्रज के प्रिय हैं।

(6.) जग मंदिर दीपक किन्हे कहा गया है और क्यों ?

उत्तर-सवैया कवित्त हिंदी पाठ 3 के माध्यम से बताया गया है की संसार यदि एक मंदिर है तो कृष्ण उस मंदिर में जलते हुए दीपक के समान हैं। वे संसार में सबसे सुंदर और उज्ज्वल होने के कारण जग-मंदिर के दीपक प्रतीत होते हैं।

 कवित्त 

(1.) कवि और कविता का नाम लिखें?

उत्तर-कवि का नाम- देव, कविता का नाम- कवित्त।

(2.)बसंत रूपी शिशु कहां किस प्रकार सोया हुआ है ?

उत्तर-बसंत रूपी शिशु पेड़ की डाल पर नए-नए पत्तों रूपी बिछौने पर फूलों का  झिंगोला पहनकर सोया हुआ है।

(3.)इस शिशु की सेवा में कौन-कौन किस रूप में लगे हैं ?

उत्तर-इस शिशु को पवन झुला रहा है, मोर और तोता इससे बतिया रहे हैं, कोयल ताली बजा-बजाकर इसे हिलाती और डुलाती है। ये सभी पक्षी उसकी सेवा में नो लगे हैं।

(4.)कंजकलि किस रूप में क्या कर रही है ?

उत्तर-कंजकली अर्थात् कमल की कली रूपी नायिका सिर पर लताओं रूपी साड़ी है ओढ़कर इस वसंत रूपी शिशु की नजर उतार रही है। जिस प्रकार राई-नोन से बालक की नजर उतारी जाती है उसी प्रकार यह नायिका पराग से इस बालक की नजर उजार रही है।

(5.)इस बालक को जगाने का काम कौन करता है ?

उत्तर-इस बसंत रूपी बालक को प्रातःकाल जगाने का काम गुलाब चुटकी बजाकर | करता है।

(6.)कवि को पेड़ पत्ते और सुमन किस रूप में दिखाई पड़ते हैं ?

उत्तर-कवि को लगता है कि- पेड़ और उसकी डालें बसंत रूपी शिशु के सोने के लिए | पालना है पत्ते मानो उस शिशु के लिए आरामदायक बिछौना है। सुमन मानो | उस शिशु का कामदार झिंगूला है। 

(7.) लताओं को देखकर कवि क्या कल्पना करता है?

उत्तर-सवैया कवित्त हिंदी कविता के द्वारा सुसज्जित फूलों वाली ऊँची-ऊँची लताओं को देखकर कवि को ऐसा प्रतीत होता व है मानो यह नायिका की जरीदार और फूलदार साड़ी है जिसे उसने सिर तक | ओढ़ रखा है।

(8.) उदधि दधि की कल्पणा स्पष्ठ करें!

उत्तर-धरती और आकाश के बीच में इतनी उज्ज्वल चाँदनी है कि कवि को लगता है मानो यह दही का समुद्र उफन रहा है। पानी का समुद्र कहने से रंगहीनता का प्रभाव बनता है। जबकि चाँदनी दूधिया होती है। इसलिए कवि ने दही के समुद्र की कल्पना की है।

(9.) तारों को देखकर कवि किया कल अपना करता है l

उत्तर-जगमगाते तारों को देखकर कवि को लगता है कि जगमगाते महल के चमकदार फर्श पर राधा की सखियाँ सजी-धजी खड़ी हैं। वे अभी रासलीला रचाएँगी।

(10.) राधिका किस प्रकार प्रतीत होती है l

उत्तर-कवि को राधिका दर्पण में झलकती उजली आभा जैसी प्रतीत होती है। चंद्रमा तो मात्र उसकी परछाईं के समान है।

(11.) कवि की कल्पना शक्ति पर प्रकाश डालें l

उत्तर-कंजकली अर्थात् कमल की कली रूपी नायिका सिर पर लताओं रूपी साड़ी ओढ़कर इस वसंत रूपी शिशु की नजर उतार रही है। जिस प्रकार राई-नोन से बालक की नजर उतारी जाती है उसी प्रकार यह नायिका पराग से इस बालक की नजर उतार रही है।

(12.) कवि द्वारा कल्पित सुधा मंदिर की क्लब ने स्पष्ट करें ।

उत्तर-सवैया कवित्त हिंदी पाठ ३ में कवि ने पूनम की रात को आकाश में सब ओर फैली उजली चाँदनी को देखा तोउसे ऐसा प्रतीत हुआ मानो आकाश में कोई चाँदनी-महल बन गया हो। कवि ने चाँदनी के प्रकाश को मनोरम बनाने के लिए उसे ‘सुधा-मंदिर’ कह दिया है। इस प्रकार चाँदनी के प्रभाव की मधुरता को भी प्रकट किया गया है।jac board

आप इन्हें भी अवश्य पढ़ें –

1. पद– सूरदास
2. राम-लक्ष्मण-परशुराम संवाद – तुलसीदास
3. (I) सवैया, – देव
(II) कवित्त – देव
4. आत्मकथ्य – जयशंकर प्रसाद
5. उत्साह, अट नहीं रही है – सूर्यकान्त त्रिपाठी निराला
6. (I) यह दन्तुरित मुस्कान – नागार्जुन
(II) फसल – नागार्जुन
7. छाया मत छूना – गिरजा कुमार माथुर
8.कन्यादान – ऋतुराज
9. संगतकार – मंगलेश डबराल

10 .नेता जी का चश्मा – स्वयं प्रकाश
11 . बालगोविंद भगत – रामवृक्ष बेनीपुरी
12 . लखनवी अंदाज़ – यशपाल
13. मानवीय करुणा की दिव्य चमक – सवेश्वर दयाल सक्सेना
14. एक कहानी यह भी – मन्नू भंडारी
15.स्त्री शिक्षा के विरोधी कुतर्कों का खंडन – महावीर प्रसाद द्विवेदी
16. नौबतखाने में इबादत – यतीन्द्र मिश्र
17. संस्कृति – भदंत आनंद कौसल्यायन

  • यदि आप क्लास 10th के किसी भी विषय को पाठ वाइज (Lesson Wise) अध्ययन करना या देखना चाहते है, तो यहाँ पर  क्लिक करें  उसके बाद आप क्लास X के कोई भी विषय का अपने पसंद के अनुसार पाठ select करके अध्ययन कर सकते है ।
  • आप क्लास 10th  हिंदी विषय के सभी पाठ, कवि परिचय ,व्याकरण ,निबंध आदि की जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे 

पाठ के प्रत्येक काव्यांश का आशय, भावार्थ(व्याख्या),अर्थ विस्तार से सरल भाषा में अध्ययन करने के लिए यहाँ क्लिक करें।अभ्यास प्रश्नों के उत्तर का अध्ययन के यहाँ पर क्लिक करें