सामाजिक समस्याएँ पाठ 7 लघु उत्तरीय प्रश्नोत्तर Ncert Solution For Class 8 Civics

0

सामाजिक समस्याएँ पाठ 7 लघु उत्तरीय प्रश्नोत्तर Ncert Solution For Class 8 Civics के इस पोस्ट में आप सभी विद्यार्थियों का स्वागत है, इस पोस्ट के माध्यम से आप सभी विद्यार्थियों को इस पाठ से जुड़ी सभी लघु उत्तरीय प्रश्नोत्तर के उत्तर जो परीक्षा की दृष्टि से आपके लिए काफी महत्वपूर्ण है, उन सभी प्रश्नों को इस पोस्ट पर कवर किया गया है ,जो आपकी परीक्षा की तैयारी के लिए काफी हेल्पफुल साबित होने वाली है, तो चलिए शुरू करते हैं-

सामाजिक समस्याएँ पाठ 7 लघु उत्तरीय प्रश्नोत्तर Ncert Solution For Class 8 Civics

सामाजिक समस्याएँ पाठ 7 अति लघु उत्तरीय प्रश्नोत्तर
सामाजिक समस्याएँ पाठ 7 लघु उत्तरीय प्रश्नोत्तर
सामाजिक समस्याएँ पाठ 7 दीर्घ उत्तरीय प्रश्नोत्तर

1 नशाखोरी के दुष्प्रभावों को लिखें।
उत्तर-नशाखोरी के दुष्प्रभाव-
(क) एकाग्रता में कमी,
(ख) स्मरण शक्ति में कमी.
(ग) स्वयं पर नियंत्रण कम होना,
(च) स्वच्छता में कमी,
(ङ) शरीर का वजन कम होना,
(च) स्वास्थ्य संबंधी समस्याएँ,
(छ) अपराधी प्रवृत्ति का जन्म।

2 मानव तस्करी के क्या-क्या तरीके हैं ?
उत्तर-मानव-तस्करी एवं बाल-तस्करी के तरीके-
(क) प्रलोभन देकर,
(ख) धमकी देकर,
(ग) जबरन या बल प्रयोग करके,
(घ) अपहरण करके,
(ड) धोखे से।

3 ‘मानव तस्करी मानवता के विरुद्ध अपराध है।’ इस कथन की व्याख्या करें ।
उत्तर-मानव-तस्करी मानवता के विरुद्ध किया गया एक अपराध है। यह विभिन्न उद्देश्यों के लिए किया जाने वाला मनुष्यों का व्यापार है, जिसमें मुख्य रूप से गुलामी, मानव अंगों का व्यापार, देह व्यापार या बाल-श्रम आदि गैर कानूनी गतिविधियाँ शामिल हैं।

वास्तव में मानव-तस्करी एक संगठित अपराध है, जिसमें विभिन्न जगहों पर इसमें कई लोग सक्रिय होते हैं। इस तरह के अपराध में ज्यादातर बच्चों और औरतों की खरीद-बिक्री होती है।

इसमें ज्यादातर गरीब परिवार के बच्चों व औरतों को मानवता के अपराधी अपना शिकार बनाते हैं। अत्यंत गरीब व पिछड़े इलाकों में बिपता चाचा जैसे दलाल सक्रिय रहते हैं और उनकी गरीबी का फायदा उठाकर या प्रलोभन देकर मानव तस्करी में संलग्न रहते हैं।

4 बाल विवाह को कानूनन अपराध माना गया है। क्या आप भी इसे अपराध मानते हैं ? अपने उत्तर के पक्ष में कारण लिखें।
उत्तर-हाँ, मैं भी बाल विवाह को अपराध मानता हूँ। बाल विवाह का नकारात्मक प्रभाव लड़के एवं लड़कियों दोनों पर पड़ता है। इसके फलस्वरूप उनके शारीरिक विकास, स्वास्थ्य, मानसिक एवं भावनात्मक स्थिति, शिक्षा आदि पर बुरा प्रभाव पड़ता है।

कम उम्र में शादी के फलस्वरूप जो बच्चे पैदा होते हैं, वे प्रायः कमजोर होते हैं। इसका एक दुष्प्रभाव यह भी होता है कि इससे बाल मृत्यु दर में वृद्धि होती है। कम उम्र की लड़कियाँ माँ बनने के दायित्वों का निर्वहन भली-भाँति नहीं कर पाती हैं।

5 बाल-श्रम को दूर करने के लिए कोई तीन सुझाव दें।
उत्तर-बाल-श्रम को दूर करने के लिए तीन सुझाव निम्न हैं-
(क) सर्वप्रथम जब तक गरीबी रहेगी तब तक बाल-श्रम हटाना संभव नहीं होगा, इसलिए गरीबी हटाने का प्रयास किया जाना चाहिए।

(ख) 14 साल के कम उम्र का कोई भी बच्चा किसी फैक्ट्री या खदान में काम करने के लिए नियुक्त नहीं किया जाए।

(ग) बच्चों को स्वस्थ तरीके से स्वतंत्र व सम्मानजनक स्थिति में विकास अवसर और सुविधाएँ दी जाए। जब किसी बच्चे को शोषित होते हुए देखें, तो उसकी व्यक्तिगत मदद करें।

6 नशाखोरी से बचाव के उपाय को लिखें।
उत्तर-नशाखोरी से बचाव के उपाय-

(क) नशा के आदी हो चुके किशोरों को अपनी समस्या को माता-पिता या अपने शिक्षकों से साझा करना चाहिए।

(ख) नकारात्मकता से बचना चाहिए।

(ग) आवश्यकता पड़ने पर चिकित्सक से सलाह अवश्य लेनी चाहिए।

(घ) नशा मुक्ति केंद्र से भी परामर्श अवश्य लेनी चाहिए।

(ङ) नशाखोरी की ओर प्रेरित करने वाले सदस्य या मित्रों से दोस्ती करने से परहेज करना चाहिए। jac board