NCERT Solutions for Civics Class 8th Chapter 2 भारतीय संविधान के आधारभूत मूल्य दीर्घ उत्तरीय प्रश्नोत्तर

0

NCERT Solutions for Civics Class 8th Chapter 2 भारतीय संविधान के आधारभूत मूल्य दीर्घ उत्तरीय प्रश्नोत्तर के इस ब्लॉग पोस्ट में आप सभी विद्यार्थियों का स्वागत है, इस पोस्ट के माध्यम से पाठ से जुड़ी सभी महत्वपूर्ण परीक्षा उपयोगी दीर्घ उत्तरीय प्रश्नोत्तर के उत्तर इस पोस्ट पर कवर किया गया है, जो काफी महत्वपूर्ण है और कई बार पिछले परीक्षा में भी पूछे जा चुके हैं, इसलिए यदि आप इस पोस्ट पर पहली बार आए हैं, तो कृपया करके पूरा पढ़ें जिससे आपकी परीक्षा की तैयारी और भी अच्छी हो सके-

NCERT Solutions for Civics Class 8th Chapter 2 भारतीय संविधान के आधारभूत मूल्य दीर्घ उत्तरीय प्रश्नोत्तर

भारतीय संविधान के आधारभूत मूल्य पाठ 2अति लघु उत्तरीय प्रश्न के उत्तर
भारतीय संविधान के आधारभूत मूल्य पाठ 2 लघु उत्तरीय प्रश्न के उत्तर
भारतीय संविधान के आधारभूत मूल्य पाठ 2 दीर्घ उत्तरीय प्रश्न के उत्तर

1 राष्ट्र की अखंडता को कैसे बनाये रखा जा सकता है ? कोई तीन सुझाव दें।
उत्तर-राष्ट्र की अखंडता को निम्नांकित प्रकार से बनाये रखा जा सकता है-
(क) प्रत्येक नागरिक का यह कर्तव्य होना चाहिए कि वे भारत की एकता एवं अखंडता की रक्षा करें।
(ख) जो राष्ट्र की एकता व अखंडता के लिए खतरा बन सकते है उनका सभी नागरिकों को आपसी भेदभावों को भुलाकर उसका सामना करना चाहिए।
(ग) व्यक्ति की गरिमा को तभी सुरक्षित रखा जा सकता है, जब राष्ट्र की एकता व अखंडता सुरक्षित रहें।

2 संविधान में भारत को एक पंथनिरपेक्ष गणराज्य घोषित किया गया है। इसके पीछे क्या कारण हो सकते हैं ?
उत्तर- संविधान में भारत को एक पंथनिरपेक्ष गणराज्य घोषित किया गया है। इसके निम्नांकित कारण हैं- भारत अनेक धर्मों की भूमि है।

भारतीय संविधान में धर्मनिरपेक्षता- वाद का तात्पर्य है कि देश के सभी धर्मों का समान सम्मान । यह सभी विश्वासों (संप्रदायों/समुदायों या धर्मो / पक्षों) को बिना किसी भय अथवा पक्ष के सभी को अपने धर्म के अनुसार पूजा या विश्वास (आस्था या संस्कार) रखने की अनुमति देता है।

यह किसी भी नागरिक के साथ उसके विश्वास (आस्था/ संस्कार) या धर्म के आधार पर किसी भी तरह का भेदभाव न करने का यकीन देता है, चाहे उनका कोई भी धर्म हो। अपनी योग्यतानुसार सभी लोग समान रूप से सरकार के किसी भी ऊँचे से ऊँचे पद पर आसीन हो सकते हैं। सरकार न तो किसी धर्म के प्रचार में किसी प्रकार का सहयोग देगी तथा न ही किसी तरह का अवरोधक खड़ा करेगी। कोई भी धर्मानुयायी देश किसी भी भाग में रह सकता है।

3 भारतीय राष्ट्रीयता क्या है?
उत्तर- इस अध्यात्म आधारित समग्र व एकात्म जीवनदृष्टि को ही हिंदू जीवनदृष्टि व इस समाज को हिंदू समाज यह नामाभिधान प्राप्त हुआ है। इसलिए यह समाज, उसका बना यह राष्ट्र जिस विशिष्ट जीवनदृष्टि के कारण पहचाना जाता है, उसे ही हिंदू जीवनदृष्टि कहा जाता है। इसलिए इस समाज की यानि की भारत की राष्ट्रीयता हिन्दू है। यह हिंदू राष्ट्र है।

4 राष्ट्रीयता से लेखक का क्या आशय है?
उत्तर- राष्ट्र के लिए जीना और काम करना, उसकी स्वतंत्रता तथा विकास के लिए काम करने की भावना राष्ट्रीयता कहलाती है । जब व्यक्ति किसी दूसरे व्यक्ति से धर्म, जाति, कुल आदि के आधार पर व्यवहार करता है तो उसकी दृष्टि संकुचित हो जाती है । राष्ट्रीयता की अनिवार्य शर्त है – देश को प्राथमिकता, भले ही हमें ‘स्व’ को मिटाना पड़े ।

5 राष्ट्रीयता में क्या लिखा जाता है?
उत्तर- राष्ट्रीयता (Nationality) किसी व्यक्ति और किसी संप्रभु राज्य (अक्सर देश) के बीच के क़ानूनी सम्बन्ध को बोलते हैं। साधारणतया राष्ट्रीयता निर्धारित करने के नियम राष्ट्रीयता क़ानून (nationality law) में लिखे जाते हैं।

6 राष्ट्रीय और राष्ट्रीयता में क्या अंतर है?
उत्तर- राष्ट्र सांस्कृतिक अवधारणा को दर्शाता है तो, राष्ट्रीय मानसिक अवधारणा के बारे में बताता है । वर्तमान में राष्ट्र का प्रयोग राज्य के अर्थ में किया जाता है, परंतु राष्ट्रीयता से राज्य का ज्ञान नहीं होता । राष्ट्र का आधार राष्ट्रीयता है । परंतु राष्ट्रीयता का आधार राष्ट्र नहीं है ।

7 राष्ट्रीयता और नागरिकता में क्या अंतर है?
उत्तर- राष्ट्रीयता उस स्थान या देश के बारे में बताती हैं जहाँ पर व्यक्ति का जन्म होता है जबकि नागरिकता सरकार द्वारा व्यक्ति को प्रदान की जाती है. जैसे अदनान सामी (गायक) पाकिस्तानी मूल का नागरिक है लेकिन उसे कुछ औपचारिकतायें पूरी करने के कारण भारत की नागरिकता मिल गयी है। jac board