इंडो-चाइना में राष्ट्रवादी आंदोलन पाठ 2 इतिहास के नोट्स| Class X | लघु उत्तरीय प्रश्न Ncert

0

इंडो-चाइना में राष्ट्रवादी आंदोलन पाठ 2 इतिहास के नोट्स के इस ब्लॉग पोस्ट में आप सभी विद्यार्थियों का स्वागत है जिसमें आपको पढ़ने के लिए मिलेगा इस पाठ से संबंधित महत्वपूर्ण लघु उत्तरीय प्रश्नों के उत्तर जो आपकी आने वाली परीक्षाओं के लिए काफी मददगार साबित हो सकती है तो चलिए एक-एक करके सभी प्रश्नों का उत्तर पढ़ते हैं, साथ में  इंडो-चाइना में राष्ट्रवादी आंदोलन के अति लघु उत्तरीय प्रश्न के उत्तर के लिए क्लिक करें 

इंडो चाइना में राष्ट्रवादी आंदोलन 10 class Ncert Solution for history

इंडो चाइना में राष्ट्रवादी आंदोलन अति लघु उत्तरीय प्रश्न के उत्तर
इंडो चाइना में राष्ट्रवादी आंदोलन लघु उत्तरीय प्रश्न के उत्तर
इंडो चाइना में राष्ट्रवादी आंदोलन दीर्घ उत्तरीय प्रश्न के उत्तर

1 उपनिवेशकारों के ‘सभ्यता मिशन’ का क्या अर्थ था ?
उत्तर-
यूरोपीय उपनिवेशकार स्वयं को ‘सभ्य’ तथा उपनिवेशों को असभ्य तथा पिछड़ा हुआ मानते थे। वे यह भी समझते थे कि असभ्य तथा पिछड़ों तक सभ्यता की रोशनी पहुँचाना उनका दायित्व है। अतः उन्होंने उपनिवेशों की स्थापना को अपना ‘सभ्यता मिशन’ घोषित किया।

2. हुइन फू सो पर संक्षिप्त टिप्पणी लिखें।
उत्तर-
‘होआ हाओ आंदोलन’ के संस्थापक का नाम था हुइन फू सो। वह जादू-टोना और गरीबों की मदद किया करते थे। व्यर्थ खर्च के खिलाफ उनके उपदेशों का लोगों में काफी असर था। वह बालिका बधुओं की खरीद-फरोख्त शराब व अफीम के प्रखर विरोधी थे।

फ्रांसीसियों ने हुइन फू सो के विचारों पर आधारित आंदोलन को कुचलने का कई तरह से प्रयास किया। उन्होंने फू सो को पागल घोषित कर दिया। फ्रांसीसी उन्हें पागल बोन्जे कहकर बुलाते थे। सरकार ने उन्हें पागलखाने में डाल दिया था।

मजे की बात यह थी कि जिस डॉक्टर को यह जिम्मेदारी सौंपी गई कि वह फू सो को पागल घोषित करे, वही कुछ समय में उनका अनुयायी बन गया। आखिरकार 1941 में फ्रांसीसी डॉक्टरों ने भी मान लिया कि वह पागल नहीं है।

इसके बाद फ्रांसीसी सरकार ने उन्हें वियतनाम से निष्कासित करके लाओस भेज दिया। उनके बहुत सारे समर्थकों और अनुयायिओं को यातना शिविर (कान्संट्रेशन कैप) में डाल दिया गया।

इंडो चाइना में राष्ट्रवादी आंदोलन question answer

3 वियतनाम के केवल एक-तिहाई विद्यार्थी ही स्कूली पढ़ाई सफलतापूर्वक पूरी कर पाते थे। कोई तीन बिन्दु देते हुए व्याख्या करें।
उत्तर-
(क) वियतनाम में शिक्षा काफी महंगी थी अतः केवल धनी वर्ग ही शिक्षा प्राप्त करने में सक्षम था। इसके साथ ही शिक्षा का माध्यम फ्रांसीसी भाषा थी जो सामान्य लोगों के लिए जटिल थी।

(ख) भारी संख्या में वियतनामी छात्रों की परीक्षाओं में फेल कर दिया जाता था, ताकि वे फ्रांसीसियों के लिए सुरक्षित अच्छी नौकरियों के लिए योग्यता प्राप्त नहीं कर सकें।

(ग) फ्रांसीसी वियतनाम में आधुनिक शिक्षा का अधिक विकास नहीं करना चाहते थे। उन्हें डर था कि शिक्षित वर्ग औपनिवेशिक शासन का विरोध कर सकता इन कारणों से वियतनाम के एक-तिहाई विद्यार्थी ही स्कूली पढ़ाई सफलतापूर्वक प्राप्त कर पाते थे।

4 फ्रांसीसियों ने मेकॉग डेल्टा क्षेत्र में नहरें बनवाना और जमीनों को सुखाना शुरू किया। वर्णन करें।
उत्तर-
फ्रांसीसियों ने मेकॉग डेल्टा में नहरें बनवाई और दलदली जमीनों को सुखाना शुरू किया। इसके पीछे उनका मुख्य उद्देश्य यह था कि नहरी पानी के इलाके में चावल उगाया जा सके और उसे विश्व के बाजारों में बेचकर जल्दी से जल्दी धनाढ्य बना जा सके। वास्तव में फ्रांसीसी कंपनी एक व्यापारिक कंपनी थी इसलिए उसका मुख्य उद्देश्य वियतनाम के साधनों का प्रयोग करके अपने आर्थिक साधनों का अधिक से अधिक विस्तार करना था।

5 सरकार ने आदेश दिया कि साइगॉन नेटिव गर्ल्स स्कूल उस लड़की को वापस कक्षा में ले, जिसे स्कूल से निकाल दिया गया था। व्याख्या करें।
उत्तर
-(क) 1926 ई० में साइगॉन नेटिव गर्ल्स स्कूल में एक बड़ा आंदोलन खड़ा हो गया जब अगली सीट पर बैठी एक वियतनामी लड़की को पिछली कतार में बैठने का आदेश दिया गया क्योंकि अगली सीट पर एक फ्रांसीसी लड़की को बैठाना था।

(ख) वियतनामी लड़की ने जब पिछली कतार में बैठने से इन्कार कर दिया तो उसे स्कूल से निकाल दिया गया। यही नहीं जब अन्य विद्यार्थियों ने इस बात का विरोध किया तो उन्हें भी स्कूल से निकाल दिया गया।

(ग) इसके परिणामस्वरूप विवाद ने खुले आंदोलन का रूप ले लिया। जब हालात बेकाबू होने लगा तो सरकार ने आदेश दिया कि उस लड़की को दोबारा स्कूल में वापस ले लिया जाए।
और इस तरह अनेक घटनाओं ने वियतनाम के लोगों, विशेषकर विद्यार्थियों में, देशभक्ति की भावनाओं को प्रेरित किया।

6 हनोई के आधुनिक नवनिर्मित इलाकों में चूहे बहुत थे। वर्णन करें।(इंडो-चाइना में राष्ट्रवादी)
उत्तर-
(क) वियतनाम के हनोई शहर में फ्रांसीसी लोगों के आबादी वाले क्षेत्र को खूबसूरत और साफ-सुथरा शहर बनाया गया था। शहर के आधुनिक भाग में स्वच्छ परिवेश बनाए रखने के लिए विशाल सीवर बनाए गए थे।

ये सीवर चूहों के पनपने के लिए उचित स्थान बन गया। इन सीवर में चलते हुए चूहे पूरे शहर में घूमते थे और इन्हीं पाइपों के रास्ते चूहे फ्रांसीसियों के घरों में घूमने लगे। सीवर जैसे सुरक्षित स्थान पर चूहों की जनसंख्या में वृद्धि हुई।

(ख) फ्रांसीसी अपने निवास क्षेत्र को तो साफ-सुथरा रखना चाहते थे, लेकिन स्थानीय लोगों के रहने की परिस्थितियों से उन्हें कोई लेना-देना नहीं था। उन्होंने हनोई नगर को आधुनिक ढंग से बसाया लेकिन नगर की गंदी नालियों को स्थानीय लोगों की बस्तियों में खोल दिया।

(ग) इन्हीं सीवरों में चूहे अबाध रूप से पूरे शहर में घूमते थे। चूहों और गंदगी के कारण 1903 ई० में हनोई में प्लेग की बीमारी फैल गई।

इंडो चाइना में राष्ट्रवादी आंदोलन प्रश्न उत्तर

7 टोंकिन फ्री स्कूल की स्थापना के पीछे कौन-से विचार थे ? वियतनाम में औपनिवेशिक विचारों के लिहाज से यह उदाहरण कितना सटीक है?
अथवा, टॉकिन फ्री स्कूल कब खोला गया था ? टोंकिन फ्री स्कूल की स्थापना के पीछे फ्रांसीसियों के किन्हीं दो विचारों का उल्लेख करें।
उत्तर-
(क) पश्चिमी ढंग की शिक्षा देने के लिए 1907 ई० में टोकिन फ्री स्कूल खोला गया। इस स्कूल में अन्य विषयों के साथ-साथ विज्ञान, स्वच्छता तथा फ्रांसीसी भाषा की भी शिक्षा दी जाती थी। इनकी कक्षाएँ शाम को लगती थी तथा उनके लिए अलग से फीस ली जाती थी।

(ख) टोकिन फ्री स्कूल की स्थापना का उद्देश्य न सिर्फ आधुनिक शिक्षा का प्रसार करना था बल्कि वियतनामियों को पश्चिमी सभ्यता से परिचित कराना भी था। स्कूल अपने छात्रों को पश्चिमी जीवन शैली अपनाने को भी प्रेरित करता था। वियतनामियों को छोटे बाल रखने की सलाह दी जाती थी, जबकि परंपरागत रूप से वियतनामी लंबे बाल रखते थे।

(ग) औपनिवेशिक विचारों के लिहाज से फ्रांसीसियों द्वारा उठाए गए उपर्युक्त कदम का उद्देश्य वियतनामियों पर फ्रांसीसी संस्कृति को थोपना था।jac

8 अमेरिका के खिलाफ वियतनामी युद्ध का हो ची मिन्ह भूलभुलैया मार्ग पर माल ढोने वाला कुली के दृष्टिकोण से मूल्यांकन करें।
उत्तर-
कुछ इलाकों में माल ढुलाई के लिए ट्रकों का इस्तेमाल भी किया जाता था लेकिन ज्यादातर यह काम कुली करते थे जिनमें ज्यादातर औरतें होती थीं। इस तरह के कुली औरत-मर्द लगभग 25 किलो सामान पीठ पर या लगभग 70 किलो सामान साइकिलों पर लेकर निकल जाते थे।

9 अमेरिका के खिलाफ वियतनामी युद्ध का एक महिला सिपाही के दृष्टिकोण से मूल्यांकन करें।
उत्तर-
1960 के दशक के पत्र-पत्रिकाओं में दुश्मन से लोहा लेती योद्धा औरतों की तस्वीरें
बड़ी संख्या में छपने लगीं। इन तस्वीरों में स्थानीय प्रहरी दस्ते की औरतों को हवाई जहाजों को मार गिराते हुए दर्शाया जाता था।

उनको युवा, बहादुर और समर्पित योद्धाओं के रूप में चित्रित किया जाता था। इस बारे में कहानियाँ छपने लगीं कि सेना में शामिल होने और राइफल उठाने का मौका मिलने से वे कितना खुशी महसूस करती हैं।

कुछ कहानियों में बताया जाता था कि किस अप्रतिम वीरता का परिचय देते हुए किसी महिला सैनिक ने अकेले ही शत्रुओं को मार गिराया। न्यूयेन थी शुआन नामक महिला के बारे में बताया जाता था कि उसके पास केवल 20 गोलियाँ थीं लेकिन इन्हीं के सहारे उसने एक जेट विमान को मार गिराया था।

इंडो-चाइना में राष्ट्रवादी आंदोलन नोट्स

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here